Home Blog

What is NFT? What are Non-Fungible Tokens (NFTs)?

0

NFT are digital assets that can be assigned a unique identifier and are non-fungible. Non-fungible tokens are not interchangeable with other tokens as each token has its own unique characteristics or properties. Non-fungible tokens are different from non-fungible tokens.

What is NFT? What are Non-Fungible Tokens (NFTs)
What is NFT? What are Non-Fungible Tokens (NFTs)

What is NFT? What are Non-Fungible Tokens (NFT)?

Fusible tokens can be substituted for one another, such as dollar bills as a currency where all dollar bills have the same value. On the other hand, NFT have their own unique properties and cannot be substituted for each other.Let us look in detail – NFT stands for ‘Non-Fungible Token’. In the world of cryptocurrency, fungibility is something that refers to the interchangeability of units of a given currency or asset.

For example, each dollar bill is the same as every other dollar bill; They are all equivalent and interchangeable. That’s why we call them irreplaceable assets instead of irrevocable assets. An NFT, on the other hand, is not interchangeable with others – rather, it is an asset that can only be used once and represents a particular person or entity (such as your friend Peach).

What makes a token ‘non-fungible’?

Fungibility is the quality of a good or commodity whose individual units are interchangeable. For example, a barrel of crude oil is the same as any other barrel of crude oil. Non-fungible tokens differ from each other as they each have different properties. They cannot be substituted for each other, and they can be traded, sold, or segregated, unlike fungible tokens.

Why do we need non-fungible tokens?

Non-fungible tokens, such as Ethereum, are exchangeable units that can be broken down into smaller units. However, it is not possible to break down non-fungible tokens into smaller units or combine them to form larger units. Non-fungible tokens are used for specific digital assets such as artwork, tickets to an event, or collectibles. They are used for business assets that have their own distinctive assets (such as an era of music, an artist, etc.).

How are NFT different from other tokens?

NFT are different from other tokens such as utility, security, or equity tokens. Utility tokens are used to access a product or service such as a decentralized ride-hailing app. Security tokens are used to represent ownership in companies. Equity tokens represent a stake in a company and are similar to stocks. NFT are not interchangeable with each other. They simply represent a particular art or object with a specific token.

NFT features and benefits

Transparency – Blockchain technology allows for complete transparency and traceability of the supply chain and product journey. – Reducing fraud – The decentralized nature of blockchain means that there is no central authority that can tamper with or modify records. – Prevent Counterfeiting – With distributed ledger, you can trace every piece of merchandise and be sure that every item is genuine. – Accessibility – Because the records are publicly available, anyone can view them. This means you can also provide customer service and track customer complaints. – Security – The decentralized nature of the blockchain means that there is no central authority that can tamper with or modify the records.

Conclusion

NFT are digital assets that can be assigned a unique identifier and are non-fungible. They are different from each other as they each have their own distinctive properties. They are used to represent a particular piece of art or an object with a specific token. NFT are used to trade assets that have their own unique assets. However, NFT have many benefits such as transparency, less fraud, less counterfeiting, accessibility and security.

Apna business kaise start kare in hindiअपना बिज़नेस कैसे स्टार्ट करे

अपना बिज़नेस कैसे स्टार्ट करे :- यदि आप अपना स्वयं का बिज़नेस शुरू करना चाहते है, तो बिज़नेस मे कामयाबी पाने के लिए आपको मेहनत, पैसा, समय आदि सब कुछ लगाना पडता है तभी आप आपको अपने बिज़नेस मे प्रॉफिट कमाने का मौका मिलता है।

Apna business kaise start kare in hindi | Business karne ke tarike

क्योंकि आज कल के समय मे लोग दुसरो की कम्पनीयों मे जॉब करना पसंद नहीं करते है, ऐसे मे वह ख़ुद का अपना बिज़नेस शुरू करके अपने बिज़नेस का मालिक बनाना ज्यादा पसंद करते है। क्योंकि अपना Business करने पर हमें किसी की डांट डापट सहने की जरूरत नहीं पड़ती है, साथ ही अपने मन के मुताबिक अपना बिज़नेस चला सकते है।

अपना खुद का बिज़नेस शुरू करने के लिये कुछ टिप्स :-
हम यहाँ पर अपना खुद का कोई भी बिज़नेस शुरू करने के लिये कुछ टिप्स दे रहे है, यदि आप हमारे द्वारा बताई गई टिप्स फॉलो करके अपना बिज़नेस शुरू करते है तो आपको बहुत ही कम समय मे बिज़नेस मे सफलता जरूर मिलेगी।

ज़ब आप अपना बिज़नेस करते है तो आपको दुसरो से राय अवश्य लेना चाहिए, लेकिन सलाह उन्ही लोगो से ले जिन लोगो का अपना ख़ुद का बिज़नेस हो। क्योंकि जो लोग बिज़नेस कर रहे होते है उनको बिज़नेस करने के सारे आईडिया पता होते है,ऐसे मे उनसे सलाह लेगे तो आपको सही सलाह देंगे क्योंकि बिज़नेस करना तो किसी सफल व्यक्ति की राय लेना ही सही रहेगा ताकि वह आपके बिज़नेस को सफल बनाने के लिये कुछ टिप्स जरूर देंगे ।

Apna business kaise start kare in hindi | Business karne ke tarike


1.बिज़नेस प्लान करना :
आप अपना बिज़नेस करना चाहते है तो सबसे पहले आपको बिज़नेस प्लान करना पडता है, कि आपको किस बिज़नेस मे ज्यादा नॉलेज है। उसी के अनुसार आप जैसे – फनीचर बिज़नेस, कॉस्मेटिक का बिज़नेस,

मास्क बनाने का बिज़नेस,सेमई बनाने का बिज़नेस आदि इन मे से कोई एक बिज़नेस को चूस करके बिज़नेस प्लान बना ले कि उस बिज़नेस को करने कितना इन्वेस्टमेंट करना होगा, किस जगह पर हमारा बिज़नेस चलेगा, बिज़नेस करने के लिये जमीन खरीदनी की पड़ती है जहाँ पर हमें गोदाम या दुकान बनवाना होता है तभी आप अपना बिज़नेस शुरू कर पायेगे।

2.बिज़नेस करने के लिये मार्केटिंग रिसर्च :-
आप अपना बिज़नेस करना चाहते है,तो आपको मर्केटिंग रिसर्च करना बहुत जरूरी होता है। आप जिस चीज का बिज़नेस कर रहे है, उसके बारे मे मर्केट मे जाकर रिसर्च कर ले कि जिस जगह पर आप अपना बिज़नेस करना चाहते है, वह जगह कैसी है और वहां पर पहले से कितनी दुकाने खुली हुयी है। यदि वहां पर पहले से उसी चीज की दुकान खुली है जिस चीज की दुकान आप खोलना चाहते है, तो ऐसे मे आप किसी दूसरी जगह पर दुकान खोले।

3.बिज़नेस करने मे पूँजी निवेश :-
यदि आपना बिज़नेस शुरू करना चाहते है, तो आपको 50,000 से लेकर 100,000₹ तक शुरू मे इन्वेस्टमेंट करना ही पडता है। क्योंकि बिज़नेस करने मे हमें दुकान या गोदाम खरीदने मे पैसा इन्वेस्टमेंट करना होता है तथा दुकान का सामान खरीदने मे लगने वाली पूँजी निवेश। इसके अलावा बिज़नेस करने मे कुछ कर्मचारियो की जरूरत पड़ती है, उनको भी महीने मे 8000₹ वेतन देना ही पडता है।

4.बिज़नेस के लिये दुकान :-
यदि आप अपना बिज़नेस करते है, तो आपको दुकान खरीदना पडता है। क्योंकि सामान रखने के लिये दुकान या गोदाम की जरूरत पड़ती है ऐसे मे हमें मार्केट मे जाकर ऐसी जगह का चुनाव करे जिस जगह सुबह, शाम लोगो की भीड़भाड़ इकट्ठा होती हो उस जगह पर दुकान खरीदे और दुकान के मालिक को पैसे देते समय तुरंत दुकान का एग्रीमेंट करवा ले और अपना सामान सही ढंग से दुकान मे जमा ले।

  1. बिज़नेस करने के लिये कुछ लोगो सलाह ले :-
    आप अपना बिज़नेस करना चाहते है तो आप किसी ऐसे व्यक्ति से बिज़नेस के बारे मे राय ले सकते है, जो लोग पहले से ही ऑनलाइन या ऑफलाइन बिज़नेस कर रहे होते है और बिज़नेस मे उनसे सलाह अवश्य ले और उनके सपोर्ट के द्वारा आप अपना बिज़नेस स्टार्ट कर सकते है तो आप एक दिन जरूर एक कामयाब बिज़नेसमैंन बनेगे।

6.बिज़नेस के लिये नाम का चयन :-
यदि आप अपना बिज़नेस शुरू करते है, तो अपने बिज़नेस के लिये आपको एक नाम का चयन करना पडता है। लेकिन अपने बिज़नेस के लिये एक ऐसा नाम चुने जो आपके बिज़नेस के नाम से मिलता -जुलता हो। लेकिन आप खुद से बिज़नेस का नाम चूस नहीं कर पा रहे तो इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं है, ऑनलाइन मोबाइल से गूगल मे बिज़नेस के नाम सर्च करते है तो आपके सामने लाखो नाम आ जाते है उन मे से जो भी नाम आपके बिज़नेस से मैच करता हो वही नाम सेलेक्ट करके अपने बिज़नेस के नाम बोर्ड का बनवा कर अपने दुकान मे लगवा सकते है।

7.बिज़नेस के लिये स्टॉफ की जरूरत :-
यदि आप अपना किसी चीज का बिज़नेस करते है तो आपको एक स्टॉफ की जरूरत पड़ती है। स्टॉफ किसी एक व्यक्ति को नहीं कहा जाता है स्टॉफ यानि 4से 8 लोग जो एक साथ मिलकर काम करते है उनको स्टॉफ कहा जाता है। जैसे कि आप मास्क बनाने का बिज़नेस या अगरबत्ती बनाने का बिज़नेस करते है, तो उसमे आपको 4-8 कर्मचारी मिलकर उस काम को करते है, तब जाके काम पूरा होता है क्योंकि बिज़नेस अकेले नहीं किया जा सकता है।

8.बिज़नेस के लिये ऑनलाइन ग्रुप बनाये :-
यदि आप किसी चीज का बिज़नेस करते है, तो आप चाहते है कि आपका बिज़नेस अच्छा खासा चले तो उसके लिये आपको एक ग्रुप बनाना चाहिए। और जितने भी लोगो आपके कांटेक्ट मे हो उन सब को अपने बिज़नेस ग्रुप मे जोड़े और आप जो भी बिज़नेस करते है उसके बारे मे जानकारी ग्रुप मे डालते रहे और यदि किसी सामान मे ऑफर निकलता है तो ग्रुप मे तुरंत सूचित करे ताकि लोग देखे और आपके दुकान पर सामान खरीदेगे लिये आयेगे और आपको उतना ही अधिक प्रॉफिट होगा।

9.बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन जरूर करवाए :
यदि आप कोई भी छोटा या बड़ा बिज़नेस शुरू करते है, तो सरकार द्वारा बनाये गए नियम के अनुसार आप डॉक्यूमेंट लगा कर नगरपालिका या ऑनलाइन द्वारा अपना रजिस्ट्रेशन करवा कर अपना लाइसेंस प्राप्त कर सकते है और अपना बिज़नेस शुरू कर सकते है। क्योंकि ज़ब भी आपना बिज़नेस करते है तो आपके साथ काम करने के बड़े -बड़े बिज़नेसमैंन आपका लाइसेंस पहले देखते फिर बाद मे आपके साथ काम करने के लिये राजी होते है, इसलिए बिज़नेस करने से पहले रजिस्ट्रेशन करवाना बहुत ही जरूरी होता है।

10.ग्राहकों के साथ अच्छे से बात करे :-
अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिये आपको अपने ग्राहकों के साथ अच्छे से व्यवहार करना चाहिए। यदि आप अपने ग्राहकों से अच्छे सबंध रखते है, उनसे अपने प्रोडक्ट के बारे मे अच्छे से डिस्कस करते है उनको अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी और प्राइस को लेकर अच्छे से ग्राहकों को समझाते है तो वह आपसे संतुष्ट होंगे तो वह आपके प्रोडक्ट खरीदेंगे और आपके खास ग्राहक बन जायेगे।

11.अपने ग्राहकों के ऊपर गुस्सा ना करे :-
कई बार ऐसा होता है कि आपके प्रोडक्ट के बारे मे आप अपने ग्राहकों बताते है लेकिन उनको आपके प्रोडक्ट पसंद नहीं आते है। तो ऐसे मे आप अपने ग्राहकों के ऊपर गुस्सा निकलाने लगते है कि आपको प्रोडक्ट खरीदने नहीं थे तो मेरा टाइम बेस्ट क्यों किया और आप उनसे बहसबाजी करने लग जाते है। लेकिन बहस करने के वजाय आप उनको दोबारा प्रोडक्ट के बारे मे अपनी राय दे शायद दूसरी बार मे उनको आपकी दी हुयी राय से खुश हो जाये और आपके दुकान से प्रोडक्ट खरीदने लगे।

12.गलतियों और असफलताओ से सीखे :-
आप अपना बिज़नेस स्टार्ट करते है, तो आपसे कुछ गलतियां भी हो जाती है,जिस वजह से बिज़नेस मे गुनाफा की जगह नुकसान हो जाता है। क्योंकि आप अपनी गलतियों से ही बहुत कुछ सीखने को मिलता है, लेकिन कुछ ऐसे लोगो होते है, जो एक बार असफल होने के बाद दुबारा हार मान लेते है। और निराश हो कर बैठ जाते है उनके अंदर डर बैठ जाती है कि फिर कही दुबारा बिज़नेस स्टार्ट करेंगे तो फिर उनको रिस्क उठाना पड़ेगा लेकिन ऐसा नहीं होता है, जो लोग एक बार असफल होते है, वह एक दिन अपने जीवन मे सफलता हासिल जरूर करते है।

  1. धैर्य रखे :-
    यदि आप अपना कोई बिज़नेस स्टार्ट करते है, तो आप सोचते होंगे कि आपको 1रात मे ही आपको कामयाबी मिल जाएगी। लेकिन आपको धैर्य रखना होगा क्योंकि सफलता उसे ही मिलती है जो सच्ची लग्न और मेहनत करने वाले व्यक्तियो को ही बिज़नेस मे सफलता मिलती है।
  2. बिज़नेस को बेहतर बनाने का कोशिश करे :
    आप अपने बिज़नेस को और बेहतर बनाने के लिये आपको जी जान लगा कर मेहनत करना होता है तभी हम पहली बार के मुकाबले दूसरी बार बिज़नेस मे बेहतर करने की कोशिश करते है, तो एक दिन आप अपने बिज़नेस को बेहतर बना कर कामयाबी अपने दम पर हासिल कर सकते है।

15.बिज़नेस मे जोखिम उठाना :-
यदि आप कोई बिज़नेस स्टार्ट करते है जो जोखिम उठाना पडता है। क्योंकि बहुत से लोग बिज़नेस करते समय डरते है कि कही नुकसान ना हो, जाये लेकिन वही अगर उनको बिज़नेस मे प्रॉफिट हो जाता है तो वह अपनी खुशी किसी से नहीं बाँटते है। अगर वही उनको बिज़नेस मे नुकसान हो जाता है, तो वह दुनियाभर मे लोगो से बताते हुए फिरते है कि मुझे लाखो रूपये का बिज़नेस मे नुकसान हो गया है।